गन्ना किसानो के लिए खुशखबरी, सरकार ने गन्ने के भाव तय किया, इतने रूपये कुंतल हुआ रेट।

नई दिल्ली। गन्ना किसानों की आय बढ़ाने के लिए एक बड़े कदम के तहत केंद्र सरकार ने बुधवार को गन्ने की कीमत रुपये निर्धारित की। 305 प्रति क्विंटल। यह घोषणा की गई थी कि आर्थिक मामलों की कैबिनेट कमेटी (सीसीईए) ने बुधवार को गन्ने की कीमत 15 रुपये बढ़ाकर रु। अक्टूबर 2022 में शुरू होने वाले आगामी खरीद वर्ष में प्रत्येक क्विंटल के लिए 305। कैबिनेट की बैठक में उस एफआरपी को बढ़ाने का निर्णय लिया गया, यानी गन्ने के लिए एक समान और उचित मूल्य।

एफआरपी सबसे कम राशि है जिस पर चीनी मिलों को किसानों से गन्ना चीनी खरीदने की आवश्यकता होती है। सरकार गन्ना (नियंत्रण) आदेश, 1966 में एफआरपी निर्धारित करती है। एफआरपी में 15 रुपये प्रति क्विंटल की वृद्धि का कैबिनेट नोटिस पहले जारी किया गया था।

पूर्व में गन्ने का भाव 290 रुपये प्रति क्विंटल था। इसे बढ़ाकर 305 रुपये प्रति क्विंटल कर दिया गया है। सरकार ने पिछले 8 वर्षों में एफआरपी में 34 प्रतिशत की वृद्धि की है। इससे देश भर में 50 लाख गन्ना किसानों और चीनी मिलों में काम करने वाले 5 लाख कामगारों को फायदा होगा।

गन्ना पेराई का मौसम आम तौर पर अक्टूबर और नवंबर के महीनों में शुरू होता है और अप्रैल के मध्य तक चलता है। सरकार के सूत्रों के अनुसार गन्ने की लागत बढ़ाने के अलावा केंद्र ने चीनी से 12 लाख टन अतिरिक्त निर्यात की अनुमति दी है। इसका कारण यह है कि चालू सीजन के दौरान गन्ना उत्पादन, जो सितंबर 2022 में समाप्त हुआ, अपेक्षित घरेलू उत्पादन से अधिक है। लेकिन, इस मुद्दे को लेकर सरकार की घोषणा अभी बाकी है.

Leave a Comment